Home forword btn Abhi forword btn Ek Chehra Jo Mere Khwaab Sajaa Deta Hai

Abhi Ek Chehra Jo Mere Khwaab Sajaa Deta Hai

Ek Chehra Jo Mere Khwaab Sajaa Deta Hai

Ek Chehra Jo Mere Khwaab Sajaa Deta Hai,

Mujh Ko Mere Hi Khayaalon Mein Sadaa Deta Hai,

Wo Mera Kaun Hai Maloom Nahi Hai Lekin,

Jub Bhi Milta Hai To Pehlu Mein Jagaha Deta Hai,

Mein Jo Andar Se Kabhi Toot Ke Bikhrun,

Wo Mujh Ko Thaamne Ke Liye Haath Bada Deta Hai,

Main Jo Tanha Kabhi Chupke Se Bhi Rona Chaahun,

To Dil Ke Darwaaze Ki Zanjeer Hila Deta Hai

Uss Ki Qurbat Mein Hai Kya Baat Na Jaane Mohsin,

Ek Lamhe Ke Liye Sadiyon Ko Bhula Deta Hai.

 

एक चेहरा जो मेरे ख्वाब सजा देता है,

मुझ को मेरे ही ख्यालों में सदा देता है।

वो मेरा कौन है मालूम नहीं है लेकिन,

जब भी मिलता है तो पहलू में जगा देता है।

मैं जो अन्दर से कभी टूट के बिखरूं,

वो मुझ को थामने के लिए हाथ बढ़ा देता है।

मैं जो तनहा कभी चुपके से भी रोना चाहूँ,

तो दिल के दरवाज़े की ज़ंजीर हिला देता है।

उस की कुर्बत में है क्या बात जाने मोहसिन,

एक लम्हे के लिए सदियों को भुला देता है।

Tags: Mujh Ko Mere Hi Khayaalon Mein Sadaa Deta Hai, Uss Ki Qurbat Mein Hai Kya Baat Na Jaane Mohsin

Leave Your Comment

Login to post a comment


Kya bt hai...